कभी ख़ुशी कभी गम, यही है Bollywood का कड़वा सच

वो तीन साल से बीमार बिस्तर पर अकेला ही है | अपना जैसे तैसे गुज़ारा कर रहा है | गौर मतलब है कि कभी तो बॉलीवुड में सब एकजुट हो जाते है सबकी मदद करने के लिए और अगर मदद नहीं की तो उसके मरने के बाद यही कह सकते है कि इंडस्ट्री को नुकसान हो गया | शायद इसे ही ज़िन्दगी कहते है |

Featured Image Source

loading...