“Pink” को बार बार देखो

सिर्फ नाम रख देने से फिल्म बार बार देखो, कोई भी उसे बार बार नहीं देख सकता | परंतु ‘पिंक’ फिल्म ऐसी है जिसे न देखने की सलाह कोई भी नहीं दे सकता | एक बार फिल्म देखने के बाद हर कोई कह सकता है कि बार बार देखो | इसमें कोई शक नहीं है कि हमारे समाज की सोच पुरुषवादी रही है | और यहाँ पर पुरूषों और महिलाओ के लिए अलग अलग पैमाने रहे है | इस पिंक फिल्म की कहानी भी कुछ ऐसी ही है, कि जहाँ महिला के पुरुष के साथ थोड़ा सा घुलने मिलने पर,पुरुष उस पर अपना अधिकार समझने लगता है |

article55_2

Source

फिल्म के जरिये समाज की उस सोच पर सवाल किया जाता है कि क़्यू महज़ छोटी स्कर्ट और पुरुषो के साथ ड्रिंक करने पर, लड़की के चरित्र को ख्रराब मान लिया जाता है |  अनिरुद्ध  राय चौधरी के निर्देशन में बनी ये फिल्म अमिताभ बच्चन,पीयूष मिश्रा और तापसी पन्नू  के अभिनय से सजी है | राष्टीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित अनिरुद्ध  राय चौधरी की बॉलीवुड में ये पहली फिल्म है | इससे पहले वो बंगला में सुपरहिट फिल्मे दे चुके है | इस फिल्म को देखने के बाद ऐसा लगता है कि उम्र के इस पड़ाव पर भी अमिताभ बच्चन अपने हर किरदार के साथ काम में नयापन ला रहे है | वैसे सबको पता हो कि अमिताभ इस फिल्म में एक वकील का रोल अदा कर रहे है |

Featured Image Source

loading...